फाइलेरिया पर लगाम के लिए दस्तक अभियान पर ज़ोर

0
15

कानपुर : जिले में विशेष संचारी रोग नियंत्रण एवं दस्तक अभियान चलाया जा रहा है । इसके अन्तर्गत जिले के अलग-अलग क्षेत्रों में विभिन्न गतिविधियाँ चलाई जा रही हैं । अभियान में सहयोग दे रहे विभिन्न विभागों के साथ समीक्षा बैठक भी की गई ।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. नेपाल सिंह के निर्देशन में जिले में चलाए जा रहे विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान के अन्तर्गत विभिन्न विभाग मिलकर कार्य कर रहे हैं । इनमे स्वास्थ्य विभाग मुख्य भूमिका निभा रहा है । जिले में चलाई जा रही गतिविधियों के बारे में जिला मलेरिया अधिकारी ए.के. सिंह ने बताया कि दस्तक अभियान के साथ-साथ फाइलेरिया उन्मूलन के लिए आशा कार्यकर्त्ता घर-घर भ्रमण कर रही हैं और लोगों को स्वयं फाइलेरिया की दवा खिला रही हैं । गत दिवसों में संचारी रोग नियंत्रण अभियान के तहत विभिन्न ग्रामो और शहरी क्षेत्रों में लार्वा नाशक का छिड़काव, फागिंग, मच्छर पनपने के स्रोतों का नष्टीकरण और न्यूनीकरण एवं जागरूकता कार्यक्रम भी आयोजित किये जा रहे हैं ।

अभियान के अन्तर्गत शनिवार को मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय, आर.सी.एच. सभागार में अन्तर्विभागीय समीक्षा बैठक की गई । ए.सी.एम.ओ. व वी.बी.डी. नोडल डॉ. ए.पी.मिश्रा और ए.सी.एम.ओ. व आर.सी.एच. नोडल डॉ.एस.के.सिंह के निर्देशन में आयोजित बैठक में अभियान की समीक्षा की गई । ग्राम विकास विभाग को ग्रामीण स्तर पर आयोजित गतिविधियों यथा नाली सफाई, झाड़ी कटाई आदि के लिए निर्देशित किया गया । फाइलेरिया उन्मूलन के लिए आई.डी.ए. कार्यक्रम में आने वाली कठिनाइयों पर चर्चा कर उन्हें दूर करने के निर्देश दिए गए ।

ए.के.सिंह ने बताया कि शिक्षा विभाग संचारी रोगों पर जागरूकता का कार्य कर रहा है । इसके अन्तर्गत ज्वाला देवी विद्या मंदिर इंटर कॉलेज, राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय तिलशहरी, राजकीय हाई स्कूल राघनपुर में पोस्टर प्रतियोगिता का आयोजन किया गया और राजकीय बालिका इंटर कॉलेज में वृक्षारोपण किया गया । उन्होंने बताया कि पशुपालन विभाग द्वारा चौबेपुर व शिवराजपुर, बिधनू ब्लॉक में जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया । शहरी क्षेत्र में मेडिकल कॉलेज बॉयज़ हास्टल, स्वरुप नगर, महादेव नगर, लक्ष्मीपुरवा आदि जगहों पर फागिंग, लार्वा साइडल स्प्रे एवं जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किये गये ।

पाथ सी.एच.आर.आई. के आई.वी.एम कोऑर्डिनेटर सीताराम चौधरी ने बताया कि डेंगू नियंत्रण के लिए गुज्जैनी क्षेत्र में केस सत्यापन गतिविधि की गई और लार्वा सर्वे किया गया। इसमें 6 घरों में लार्वा मिला जिसे नष्ट किया गया ।
अन्तर्विभागीय बैठक में डब्ल्यू.एच.ओ. से डॉ. नित्यानंद ठाकुर, पाथ से डॉ. मानस शर्मा, यूनिसेफ से अमित बाजपेई एवं फुजैल अहमद, पी.सी.आई. से सुनील गुप्ता और अन्य विभागों के प्रतिनिधि मौजूद रहें ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here