निःसंकोच आगे आयें – टीका लगवायें – कोरोना को हरायें

0
102

प्रयागराज – कोविड-19 के खात्मे के लिए टीकाकरण शुरू हो चुका है । सबसे पहले स्वास्थ्य कर्मियों को कोरोना वैक्सीन लगने के बाद वैक्सीन को लेकर लोगों के मन में किसी तरह का संदेह और भ्रम नहीं होना चाहिए । वैक्सीन लगवाने के बाद कोरोना योद्धाओं (स्वास्थ्य कर्मियों ) ने अपना अनुभव साझा किया । उनके अनुभव सकारात्मक व उत्साहवर्धक रहे हैं । साथ ही किसी के स्वास्थ्य पर वैक्सीनेशन के बाद कोई बुरा प्रभाव नहीं हुआ है।

डॉ. सुषमा श्रीवास्तव (सी.एम.एस., कॉल्विन हॉस्पिटल)

वैक्सीनेशन के प्रथम चरण के पहले दिन 16 जनवरी को मंडलीय चिकित्सालय एम.एल.एन. की सी.एम.एस. डॉ. सुषमा श्रीवास्तव को  कोरोना का पहला टीका लगा । अपना अनुभव साझा करते हुए उन्होने कहा “मैं सभी को आश्वस्त करना चहुंगी कि कोरोना वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित एवं कारगर है । इससे घबराने कि कोई जरूरत नहीं है । किसी अफवाह में न आएँ न ही कोई निराधार जानकारी किसी से साझा करें । हमारे देश के वैज्ञानिकों के संघर्ष का परिणाम है वैक्सीन, इसलिए निःसंकोच आगे आएँ और वैक्सीन लगवाएँ । मैंने खुद वैक्सीन लगवाया है । मुझे किसी भी प्रकार की तकलीफ नहीं है । मैं नियमित रूप से अपने कार्य को कुशलतापूर्वक कर रही हूँ ।“

डॉ. मीशम जैदी (उप नोडल शहरी स्वास्थ्य केन्द्र)

शहरी स्वास्थ्य केन्द्र के उप नोडल अधिकारी डॉ. मीशम जैदी ने 28 जनवरी को कोरोना टीका लगवाया । उन्होने कहा कि “हिंदुस्तान में जब भी कोई नई वैक्सीन आती है तो अफवाहों का दौर शुरू हो जाता है । इसकी वजह से निराधार बातों से लोग भ्रमित होते रहे हैं । देश में जब पोलियो टीकाकरण अभियान शुरू हुआ तब भी कई तरह कि अफवाहें फैली थीं । पर जनता ने वैक्सीन की अहमियत को समझा । इसी का नतीजा रहा कि भारत पोलियो मुक्त हो सका । कोरोना वैक्सीन पर फैल रही निराधार अफवाहों व आशंकाओं को दिल व दिमाग से निकाल दीजिए । पुख्ता जानकारी के बगैर न तो उसपर भरोसा करें और न ही किसी से साझा करें । लोग जागरूक हो रहे हैं इसलिए मुझे भरोसा है कि हम पोलियो टीकाकरण अभियान की तरह ही कोरोना टीकाकरण में भी जल्द ही जीत हासिल करेंगे । मेरा यही संदेश है कि बेफिक्र होकर अपनी बारी आने पर टीका जरुर लगवाएं ।

विनोद कुमार सतनाकर (सफाई कर्मचारी)

 विनोद कुमार सतनाकर एम.एल.एन. चिकित्सालय में सफाई कर्मचारी हैं । 16 जनवरी को टीके की पहली डोज़ लगने के दो हफ्ते बाद विनोद ने कहा कि “कोरोना का पहला टीका लगवाने के बाद मुझे बहुत अच्छा लग रहा है । टीका लगने के पहले भी मुझमें इसे लेकर कोई आशंका नहीं थी । मैं अपनी बारी का बस इंतजार कर रहा था । मैंने कोरोनाकाल में नियमित सेवा दी है । अस्पताल में मौजूद डॉक्टरों के सुझाव के आधार पर सभी एहतियात का पालन किया इसलिए सुरक्षित रहा । साथियों से भी कहूँगा कि घबराने की कोई जरूरत नहीं है । मैंने टीका लगवाया है, मैं स्वस्थ महसूस कर रहा हूँ इसलिए सभी अपनी बारी पर वैक्सीन जरुर लगवायें।“

कुसुम साहू (आंगनवाड़ी सुपरवाइजर)

स्वास्थ्य कर्मियों के अलावा आई.सी.डी.एस विभाग से आंगनवाड़ी पर्यवेक्षक कुसुम साहू ने 28 जनवरी को वैक्सीन का डोज़ लिया। कुसुम ने कहा कि ‘वैक्सीनेशन के पहले मुझे थोड़ी घबराहट जरूर थी, लेकिन कोरोना टीका की  पहली डोज़ लगने के बाद आधे घंटे तक ओब्जर्वेशन रूम में रही पर मुझे कोई दिक्कत महसूस नहीं हुई। टीका लगने के बाद मैंने बहुत अच्छा महसूस किया यह दिन मेरे लिए बेहद खास रहेगा। कोरोना संक्रमण से अपना, अपने परिवार व बच्चों की  सुरक्षा के लिए और कोरोना को मात देने के लिए अपनी बारी आने पर आप भी टीका लगवाएँ।“

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here