फतेहपुर जिले के महरहा गाँव का होनहार युवा गांधी शान्ति सम्मान से हुआ सम्मान्नित

0
58

जिंदगी में सपनों का होना उतना ही जरूरी हैं जितनी जरूरी खीर में चीनी का होना है, शायद सपने ही हैं जो पूरे हो या न हों पर दिल के हमेशा करीब होते हैं। लेकिन सपने भी तभी पूरे होते हैं जब इंसान पूरी ईमानदारी के साथ मेहनत करता है।

इन शब्दों को असल ज़िंदगी में सच साबित किया है फतेहपुर जिले के बिंदकी तहसील के पास महरहा गाँव निवासी आनंद प्रकाश तिवारी ने। महरहा गांव निवासी आनन्द प्रकाश अभय प्रताप सिंह डिग्री कॉलेज बिंदकी B.A.तृतीय वर्ष व राष्ट्रीय सेवा योजना के छात्र हैं।आनन्द प्रकाश को उनके लेख सत्य अहिंसा जो कि हमारे बापू (राष्ट्रीय साझा संकलन) में प्रकाशित है।उसमें उन्हें हिंदी उर्दू अदबी संगम डील द्वारा गांधी शान्ति सम्मान दे कर सम्मानित किया गया।

पुस्तक के संपादक श्री डॉ सैयद अख्तर नकवी व उप सम्पादिका श्रीमती डॉ ममता पाठक हैं।आनन्द प्रकाश को सम्मान मिलने से उनके माता पिता गौरान्वित हैं।वही विद्यालय के अध्यापकों का कहना है कि आनंन्द बहुत ही अच्छा कार्य करते रहते हैं और उनकी इस उपलब्धि में हम काफी खुश हैं। हमारा आशीर्वाद सदैव आनन्द के साथ है वो खूब तरक्की करे।
आनन्द समाज सेवा भी करते रहते हैं कभी पौधा रोपण तो कभी गांव के नालियों की साफ सफाई करते रहते हैं किसी न किसी प्रकार से वह समाज की सेवा में तत्पर रहते हैं।आनन्द कहते हैं कि ये सब उन्हें राष्ट्रीय सेवा योजना में सिखाया गया है और वहकिसी दुसरे पर अमल में लाने से पहले खुद में लाने का प्रयास करते हैं।आनन्द इसका पूरा श्रेय अपने माता पिता गुरु भाई बहन व मित्रों के देते हैं।आनन्द का मानना है कि माता पिता के आशीर्वाद से जीवन मे संस्कारों का समावेश होता है।गुरु के आशीर्वाद से जीवन का पथ तय होता है।भाई बहन और दोस्तों के प्यार व सहयोग से जीवन की कठिनाई कम हो जाती हैं और लक्ष्य प्राप्त करने में आसानी हो जाती है।
आनन्द कहते हैं कि कोई भी लक्ष्य अकेले नही पाया जा सकता उसमें प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से किसी न किसी का हाथ होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here