टेलीमेडिसिन सेवाओं से मिल रही लोगों को राहत

0
80

कौशाम्बी – ग्रामीण स्तर पर उच्च स्तरीय स्वास्थ्य परामर्श सेवाओं के लिए जनपद के 5 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर टेलीमेडिसिन सेवाएं दी जा रही हैं ।  टेलीमेडिसिन सेवाओं के अंतर्गत 13 प्रकार की स्वास्थ्य सेवाओं के लिए ऑनलाइन परामर्श दिया जा रहा है।

टेलीमेडिसिन सेवा के नोडल व डी.पी.एम ओ.पी राव ने बताया कि जिले के 5 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर टेलीमेडिसिन सेवाएं दी जा रही है। इनमें बाल रोग, सामान्य औषधि, त्वचा रोग, मूत्र रोग, हड्डी रोग, तंत्रिका, ह्रदय रोग, अन्तःस्राव, किडनी, प्रसूति एवं स्त्री रोग, फिजियोथेरेपी, गैस्ट्रो एवं कैंसर रोग  शामिल हैं। उन्होंने कहा कि सी.एच.सी. पर स्वास्थ्य से जुड़ी सुविधायें सीमित होती हैं। उच्च सेवाओं के लिए व्यक्ति को जिला चिकित्सालय या फिर मेडिकल कॉलेज जाना पड़ता है। जबकि टेलीमेडिसिन सेवाएं उपलब्ध होने से व्यक्ति या मरीज को वहीं उच्च स्वास्थ्य परामर्श मिल जाता है।

उन्होंने बताया कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर टेलीमेडिसिन सेल बनाए गए हैं। जब किसी व्यक्ति को उच्च परामर्श की आवश्यकता होती है तो सी.एच.सी. के चिकित्सक व्यक्ति को टेलीमेडिसिन सेल रेफर कर देते हैं।  इससे ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को भी उच्च स्वास्थ्य सेवाएं मिल पा रही हैं। इससे सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों के चिकित्सकों पर मरीजों का भार भी कम हो रहा है।

उन्होंने बताया कि सी.एच.सी. पर बने टेलीमेडिसिन सेल में  कैमरा, टी.वी. आदि के साथ ही जांच उपकरण भी उपलब्ध  हैं। साथ ही एक ट्रेंड स्टाफ नर्स भी रहता  है। यहाँ सुबह 9 बजे से लेकर शाम 4 बजे तक परामर्श सेवाएं दी जाती हैं। टेलीमेडिसिन सेवाओं के लिए स्वास्थ्य विभाग ने अपोलो हॉस्पिटल ग्रुप, हैदराबाद  से सेवाएं ली हुई हैं। जब कोई व्यक्ति रेफर हो कर टेलीमेडिसिन सेल में आता है तो स्टाफ नर्स वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ऑनलाइन अपोलो, हैदराबाद से संपर्क करती है। इसके पश्चात ऑनलाइन ही विशेषज्ञ चिकित्सक सी.एच.सी. में बैठे व्यक्ति से आमने-सामने बात करते हैं। यदि किसी जाँच की आवश्यकता होती है तो चिकित्सक वहां की स्टाफ नर्स को बताते है।

स्टाफ नर्स चिकित्सक के अनुसार सी.एच.सी. में ही व्यक्ति की जाँच कर ऑनलाइन ही चिकित्सक को बताती है। चिकित्सक व्यक्ति को जो भी परामर्श देते हैं उसे स्टाफ नर्स लिख कर मरीज़ को देती है। यदि मरीज़ को उच्च स्तरीय  चिकित्सा केन्द्र में भेजने की आवश्यकता होती है चिकित्सक उसे रेफर भी करते हैं। वर्तमान में 13 प्रकार के स्वास्थ्य एवं चिकित्सा से जुड़ी परामर्श सेवाएं प्रदान की जा रही हैं। उन्होंने बताया कि अप्रैल 2020 से 31  जनवरी  2021 तक 6 हजार से ज्यादा मरीजों को टेलीमेडिसिन सेवाएं दी जा चुकी हैं। और ज्यादा से ज्यादा लोगों को इसका लाभ मिल रहा हैं। सराय अकील सी.एच.सी की 21 वर्षीय नैनशी केसरवानी  ने बताया कि उन्हें बालो से जुड़ी समस्या थी। जिसके लिए उन्होंने कई जगह दिखाया और कई प्रकार की दवाएं ली थी लेकिन कोई आराम नहीं हुआ जब उन्होंने ने टेलीमेडिसिन के द्वारा त्वचा रोग से विशेषज्ञ सलाह प्राप्त की और दवा शुरू किया तो उन्हें काफी आराम हो रहा हैं |

सी.एच.सी कनेली में 63 वर्षीय बुजुर्ग को स्वास्थ्य से जुडी समस्या थी उन्होंने बाहर शहर जाकर भी इलाज कराया लेकिन उसका संतोषजनक परिणाम नही मिला जिसके बाद उन्होंने अपने सी.एच.सी अधीक्षक से सलाह ली और अधीक्षक द्वारा उन्हें  टेलीमेडिसिन में रिफर किया गया जहाँ पर परामर्श के बाद जाँच की गयी और शुगर से ग्रस्त पाए गए उनका इलाज शुरू किया गया अब वो नियमित दवा का सेवन कर रहे हैं और पूरी तरह से स्वास्थ्य हैं |  सौरभ राय जोनल हेड ओपोलो ने बताया कि टेली मेडिसिन की सुविधा को और बेहतर करने के लिए नई नई योजना बनायीं जा रही है जिसके तहत चिकित्सा अधीक्षक, ए.एन.एम को प्रशिक्षित किया जा रहा है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here