अनाथ बच्चों को मिलेगी मुफ्त शिक्षा, स्वास्थ व आवास की सुविधा

0
10

प्रयागराज : :उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का लाभ अब वह बच्चे भी उठा सकेंगे जिनके परिवार या संरक्षक की वार्षिक आय तीन लाख रूपये तक है। इससे पहले इस योजना का लाभ दो लाख रूपये सालाना आय वाले परिवारों के बच्चों को ही दिए जाने का निर्णय लिया गया था। वार्षिक आय का दायरा बढ़ा दिए जाने से अब अधिक से अधिक बच्चों को योजना से लाभान्वित किया जा सकेगा। ज्ञात हो कि कोरोना काल में अनाथ हुए बच्चों के भविष्य को संवारने के लिए आर्थिक और शैक्षिक मदद पहुँचाने के उद्देश्य से यह योजना शुरू की गयी है।

आवेदनों का इंतजार

जिला प्रोबेशन अधिकारी पंकज मिश्रा ने बताया कि यह शासनादेश योजना को लेकर एक सकारात्मक कदम है। इससे ज्यादा से ज्यादा निराश्रित बच्चे इस योजना का लाभ ले सकेंगे। अभी तक जनपद में 135 बच्चों को चिन्हित किया गया है। इनमें से 104 बच्चों का सत्यापन पूरा हो चुका है। प्रशासन अपने स्तर पर पात्र बच्चों की जानकारी एकत्र कर रहा है । इसके साथ ही नए आवेदनों का भी इंतजार है। उन्होने कहा कि योजना के तहत मासिक वित्तीय सहायता एवं अन्य सभी लाभ पाने के लिए वह निराश्रित बच्चे पात्र होंगे जिनके माता-पिता व संरक्षक की मृत्यु कोरोना महामारी से हुई है। बच्चा उत्तर-प्रदेश का निवासी होना चाहिए।

यह भी समझना होगा

बाल कल्याण समिति के मजिस्ट्रेट मोहम्मद हसन जैदी ने कहा कि इस शासनादेश से बहुत से बच्चों को योजना का लाभ मिलेगा। हमें यह भी समझना होगा कि कोरोना काल में अनाथ हुए बच्चों को उनके रिश्तेदार या अन्य कोई संपत्ति के लालच में गलत तरह से गोद ले सकता है। ऐसे बच्चों को वह बाल श्रम में धकेल सकते हैं। मानसिक व शारीरिक शोषण भी किया जा सकता है। आस-पास कहीं भी ऐसी स्थिति नजर आए तो नजदीकी पुलिस या बाल कल्याण समिति को इसकी सूचना दें। ऐसे बच्चों की जानकारी श्रम विभाग के ‘पेंसिल’ पोर्टल पर या चाइल्ड लाइन के टोल फ्री हेल्पलाइन 1098 पर भी दी जा सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here